अब तक रिलीज राजस्थानी फिल्में

1942 1 नजराना 1961 2 बाबासा री लाडली 1963 3 नानी बाई को मायरो 4 बाबा रामदेव पीर 5 बाबा रामदेव 1964 6 धणी लुगाई 7 ढोला मरवण 8 गणगोर 1965 9 गोपीचंद भरथरी 1969 10 गोगाजी पीर 1973 11 लाज राखो राणी सती 1981 12 सुपातर बीनणी 1982 13 वीर तेजाजी 14 गणगौर 15 सती सुहागण (डब्ड) 1983 16 […]

Continue reading »

राजस्थानी सनीमां की मंदरी चाल

film list1

सत्तर साल होग्या पण सवा सौ को आंकड़ो भी पार कोने हुयो शिवा’जी’ आपांने सत्तर साल होग्या फिल्मां बणातां पर हाल तक सवा सौ को आंकड़ो भी पार कोने कर सक्या। बताबा ने तो घणां कारण छे, पण हकीकत स्यूं आपां मूंडो नी मोड़ सकां के आपणी फिल्म बणाबा की गति बहोत ज्यादा धीमी रही। 1942 मैं आपणी भाषा में […]

Continue reading »

महिपाल : राजस्थानी फिल्मों के पहले नायक

mahipal_Photo

1942 में राजस्थानी सिनेमा रूपहले परदे पर अवतरित हुआ। पहली फिल्म थी नजराना और पहले नायक थे महिपाल। महिपाल का जन्म 24 नवंबर 1919 को राजस्थान के जोधपुर कस्बे में हुआ। किशोरावस्था से ही वे थियेटर से जुड़ गए। वे कविताएं भी बहुत बढिय़ा लिखते थे। थियेटर करने का जुनून उन्हें मुंबई ले गया। जीपी कपूर द्वारा निर्मित राजस्थानी फिल्म […]

Continue reading »

‘नजराणां’ स्यूं शुरू हुयो सफर

आपणी सबस्यूं पैली फिल्म छी नजराणों। या फिल्म 1942 में बणी। या बात सब खे चे, पण ईं फिल्म ने देख बा वाळो कोने मिल्यो। ज्यादातर सुणेड़ी बात ही खे चे। ईं के बाद सही तरीका स्यूं आबा हाळी फिल्म छी बी के आदर्श की ‘बाबो सा री लाडली’। या फिल्म नजराणां के करीब 19 साल बाद 1961 मैं आई। […]

Continue reading »