200 कलाकारों के साथ जयपुर में फिल्माया जाएगा बाहुबली का भव्य सीन

200 कलाकारों के साथ जयपुर में फिल्माया जाएगा बाहुबली का भव्य सीन

200 कलाकारों के साथ जयपुर में फिल्माया जाएगा बाहुबली का भव्य सीन

200 कलाकारों के साथ जयपुर में फिल्माया जाएगा बाहुबली का भव्य सीन

निर्माता-निर्देशक विपिन तिवारी की अमिताभ तिवारी स्टारर अपकमिंग मूवी राजस्थानी बाहुबली की शूटिंग 5 अक्टूबर को भारतीय शिल्प संस्थान में होगी। यहां करीब 200 कलाकारों के साथ इस फिल्म का एक भव्य दृश्य फिल्माया जाएगा।

यह भी पढ़ें : राजस्थानी फिल्म @1988 : बाई चाली सासरिये

तिवारी ने बताया कि राजस्थानी बाहुबली टाइटल ही अपने आप में बहुत भव्य और भारी है, ऐसे में हम इसे भव्य बनाने में कोई कसर नहीं छोडऩा चाह रहे हैं। हर सीन वास्तविक लगे इसलिए हमने युद्ध के दृश्य हजारों लोगों और सैकड़ों हाथी-घोड़ों के साथ हल्दीघाटी में फिल्माए।

200 कलाकारों के साथ जयपुर में फिल्माया जाएगा बाहुबली का भव्य सीन

उदयपुर के ओगना में रमणीक पहाडिय़ों पर बरसते मेह में कठिन परिस्थितियों में रोमांटिक दृश्यों की शूटिंग की। हाल ही फिल्म के कुछ दृश्य देवधाम देवमाली में फिल्माए। अपनी विशिष्ट ठेठ देशी लिविंग स्टाइल के कारण प्रसिद्ध भगवान देवनारायण के इस गांव में बहुत ही अच्छे सीन निकलकर आए हैं।

जोर-शोर से चल रही तैयारी

अब बाहुबली के कुछ दृश्य जयपुर में भारतीय शिल्प संस्थान में फिल्माए जाएंगे। पूरी टीम उसकी तैयारी में जुटी है। यहां पर शूट होने वाले सीन में आर ए एस प्रशिक्षु की भूमिका निभा रही और परी शर्मा और प्रोफेसर की भूमिका में संगीता चौधरी के साथ करीब 200 कलाकार भाग लेंगे।

यह भी पढ़ें : अब तक रिलीज राजस्थानी फिल्में

200 कलाकारों के साथ जयपुर में फिल्माया जाएगा बाहुबली का भव्य सीन

पानी के लिए संघर्ष और यहां राणा का शौर्य रहेंगे मुख्य आकर्षण

विपिन तिवारी ने बताया कि पहली बार आदिवासियों की जीवन शैली और महात्मा गांधी के अहिंसा संदेश को प्रमुखता से रखने वाली इस फिल्म में पानी के लिए पहाड़ तोडऩे का संघर्ष दिखाई देगा। हल्दीघाटी का युद्ध, आदिवासियों की 500 साल पुरानी राणा पूंजा की शौर्य गाथा और महाराणा प्रताप के सिपहसालार 5 एवेंजर फिल्म में दिखाई देंगे।

यह भी पढ़ें : इन दो राजस्थानी फिल्मों को मिला अनुदान, एक को 5 व दूसरी को 6 लाख

आदिवासियों की भाग कर शादी करने की परंपरा, मौताणा जैसी परंपरा भी पहली बार रुपहले पर्दे पर दिखाई देगी। तिवारी ने कहा कि राजस्थानी सिनेमा के इतिहास में यह फिल्म मील का पत्थर साबित होगी।

Leave a Reply