फिल्म इंडस्ट्री से जुड़े लोगों को भी दी जाए दिहाड़ी मजदूरों को मिलने वाली सुविधाएं

फिल्म इंडस्ट्री से जुड़े लोगों को भी दी जाए दिहाड़ी मजदूरों को मिलने वाली सुविधाएं

फिल्म इंडस्ट्री से जुड़े लोगों को भी दी जाए दिहाड़ी मजदूरों को मिलने वाली सुविधाएं

फिल्म इंडस्ट्री से जुड़े लोगों को भी दी जाए दिहाड़ी मजदूरों को मिलने वाली सुविधाएं

कोरोना वायरस के चलते हुए लॉकडाउन ने दिहाड़ी मजदूरों की हालत खराब कर दी है। ऐसे में उनको राहत देते हुए सरकार ने तीन महीने तक उनके खातों में एक-एक हजार रुपए दिए जाने का महत्वपूर्ण कदम उठाया है। राजस्थानी सिनेमा विकास संघ ने राज्य सरकार से यही राहत राजस्थानी फिल्म इंडस्ट्री से जुड़े डेलीवेजेज पर काम करने वाले कलाकार, तकनीशियन, लाइटमैन, जूनियर आर्टिस्ट, मेकअप मैन, स्पॉट बॉयज, कोरस डांसर और अन्य लोगों को देने की मांग की है।

यह भी पढ़ें : राजस्थानी फिल्म @1988 : बाई चाली सासरिये

संघ के संरक्षक विपिन तिवारी और अध्यक्ष शिवराज गूजर ने बताया कि फिल्म इंडस्ट्री में भी अधिकतर लोग डेलीवेजेज पर ही काम करते हैं। ये सभी असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों में आते हैं। इनका न तो पीएफ कटता है और न ही बीमा किया जाता है। ऐसे में इन्हें असंगठित श्रेणी के मजदूरों में शामिल करते हुए मुख्यमंत्री की घोषणा के अनुरूप इनके खातों में एक-एक हजार रुपए डाले जाएं।

यह भी पढ़ें : अब तक रिलीज राजस्थानी फिल्में

उन्होंने बताया कि चूंकि लॉकडाउन के चलते इन दिनों फिल्म शूटिंग का काम पूर्णतया रुका हुआ है, ऐसे में ये लोग पूरी तरह से बेरोजगार हो गए हैं। कई लोगों की तो हालत इतनी खराब है कि खाने तक के लाले पड़ गए हैं। ऐसे में सरकार की तरफ से दी जाने वाली हर महीने हजार रुपए की सहायता इनके लिए संजीवनी का काम करेगी। संघ राजस्थानी फिल्म इंडस्ट्री के ऐसे लोगों की सूची बनाकर जल्द ही श्रम विभाग को भेजेगा।

यह भी पढ़ें : इन दो राजस्थानी फिल्मों को मिला अनुदान, एक को 5 व दूसरी को 6 लाख

इसके लिए डेलीवेजेज पर काम करने वाले कलाकार, तकनीशियन, लाइटमैन, जूनियर आर्टिस्ट, मेकअप मैन, स्पॉट बॉयज, कोरस डांसर और अन्य लोग अपनी डिटेल जैसे नाम, आधार कार्ड नंबर, बैंक अकाउंट नंबर, बैंक का नाम जिसमें अकाउंट है और आईएफसी कोड, संघ के महासचिव अजय तिवारी के व्हाट्सएप नंबर 9887068868 पर भेज सकते हैं।

Leave a Reply